Header Ads

difference between web page and website in hindi

hello dosto आप सीखना चाहते ह difference between web page and website in hindi.

यानी website or web page में क्या अंतर ह हिंदी में पोस्ट चाहिए तो आपके लिए ये पोस्ट हिंदी भाषा मे help करेगा.

search page, lable, archive ko noindex kare 


difference between web page and website in hindi.
web page and website trick


आजकल लोग पैसा कमाना चाहते ह वो भी फ्री में कोई पैसा ना लगाना पड़े, इनमें कुछ लोग ऐसे ह जो video बनाके ओर कुछ लोग लिखकर कमाने के शौकीन ह.

youtube पर सब सिखाया जाता ह वंहा पर कुछ लोग सिख चुके ह ओर कुछ सिख रहे.

सभी को पता है google blogger का फ्री प्लेटफॉर्म ह उसको यूज़ कर रहे ह पर लोग कन्फ्यूज़ ह सब कुछ सीखने के बाद भी यह पता नही web page and website में क्या अंतर ह पर डरने की कोई बात नही हम आपकी help करेंगे बस पोस्ट को पढ़ते रहिए.
हम आपको बताएंगे web page or website  मे क्या फर्क है.

how to make website for free in mobile

how to change template

site submit search engine

post dalne se pahle 5 setting kare



difference between web page and website ?

web page and website में थोड़ा फर्क ह  इसको जानना जरूरी ह इसके लिए कई लोग अचरज में पड़े रहते ह ज्यादातर वो लोग ह जो सिर्फ मोबाइल को देखते ह पर उनको कोई जानकारी लेनी ह तो सर्च करते ह.

दुसरो के पेज देखकर  जानकारी ले लेते ह या वीडियो को देखते ह पर उनकी खुद की कोई साइट नही होती ह.

पर वो अपना प्लेटफॉर्म तैयार करना चाहते ह पर novelage नही  वीडियो देखते ह उनमें web page or website का जिक्र होता ह फिर सर्च करते ह . ये पोस्ट उनके लिए ह.

  अब इसके आगे  web page and website difference  के बारे में बताया jayega.

what is web page.

web page वो होता ह जब हम ब्राउज़र में किसी चीज का हल ढूंढने के लिए कोई कीवर्ड टाइप करते ह टाइप करने के बाद बहुत से रिज़ल्ट हमारे सामने आते ह फिर किसी एक को सेलेक्ट करके अपना हल सॉल्व करते ह वो किसी भी वेबसाइट का एक पेज होता ह वो इसलिए show होता ह हमने  या यूजर ने जो चीज टाइप की ह उसका हल उस पेज में होता ह इसलिए सर्च करने पर show होता ह.

ऐसे मानो की किसी भी गाड़ी का इंजन ह ये इसलिए ह वेबसाइट इसके पीछे चलती ह. जो पेज show होता ह जो कोई बार बार सर्च में आये तो साइट की रैंकिंग बढ़ती ह.

इसमे एक नाम होता ह जिसको टाइटल कहा जाता ह ओर डिस्क्रिप्शन ओर इन दोनों में कीवर्ड होते ह जो यूजर अपनी जरूरत अनुसार टाइप करते ह.

फिर एक पूरा पैराग्राफ होता ह जिसमे सारी इनफार्मेशन लिखी होती ह जिससे लोगो की जरूरत को पूरा कर सके.

how to speedup blog

how to create google,bing sitemap for free bloggee

 what is website.

वेबसाइट एक वो चीज ह जिसमे सारे पेज होते ह ऐसे मानो की सभी पेज चाहे आर्टिकल हो या नेविगेशन यानी about या प्राइवेसी पालिसी, कॉन्टेक्ट पेज का सभी डेटा होता ह.

इसका एक नाम यानी टाइटल होता ह ओर डिस्क्रिप्शन वो चीज ह जिससे यूजर को ये पता चलता ह ये वेबसाइट किसके बारे में ह.

साइट का जो भी मालिक होता ह  उसके साथ कॉन्टेक्ट करने के लिए एक कॉन्टेक्ट पेज भी होता ह ओर इसके क्या रूल ह इसके लिये प्राइवेसी पालिसी होती ह.

अबाउट पेज होता ह जिसमे जो इसका ओनर होता ह उसकी सारी डिटेल फीड होती ह उसके क्या शोंक ह वेबसाइट किसलिए बनाई ह ओर भी अपनी जानकारी शेयर की जाती ह.

वेबसाइट भी कई प्रकार की होती ह जैसे oneline शॉपिंग की या कोई अपना बिज़नेस प्रमोट करने के लिए हेल्थ या कोई फ़ोटो वीडियो ,कंटेंट शेयर करने के लिए.

इसके लिए एक डोमेन खरीदना पड़ता ह ओर उसके सर्वर पर लगाना होता ह.

सर्वर खरीदना पड़ता ह फिर उस पर डोमेन को सेट करना होता ह .इसके लिए 5 या 6 हजार रुपये खर्च करने पड़ते ह. अगर पैसा नही लगाना चाहते तो गूगल का फ्री में सर्वर ले सकते ह इसके लिए बस एक 99 रुपये का डोमेन खरीदना पड़ेगा.

इस पर जो भी आपके पास हुनर ह वो शेयर कर सकते ह. 99 रुपये खर्च करके वेबसाइट बनाना चाहते ह तो ये बिल्कुल आसान ट्रिक ह इसके हमारा ये पोस्ट वेबसाइट कैसे बनाये पढ़े.

फ्री में तो मोबाइल से भी साइट बना सकते ह बस ये पोस्ट पढ़े सब कुछ समझ आ जायेगा.

साइट बनाने के बाद सर्च इंजन में सबमिट करना पड़ता ताकि रैंक हो जाये यानी सभी लोगो तक सर्च करने पर उनको दिखाई दे.

एक साइट मैप भी बनाना होता ह जिसमे सारे लिंक होते ह ओर किस देश मे लोग देख रहे ह कंहा पर रैंक हो रही ह सारा का सारा डेटा दिखाई देता ह.

अब तो आपको पता चल गया होगा  difference between web page and website.

3 hour me article crawl technic 

how to rank web page or website .


web page vs website पर काम करने का तभी फायदा ह जब उसेे rank  करा सके अगर  rank  नही कराते तो उस पर काम करने  का कोई फायदा नही.

लोगो तक उसका कंटेंट नही पहुंचेगा यूजर को कोई इनफार्मेशन नही मिलेगी और आपको earning नही होगी फिर टाइम वेस्ट ना करे.

अब आपको बताते ह इसको कैसे रैंक कराया जा सकता ह.

1. rank home page.

जो वेबसाइट का का मैन पेज होता ह उसे होम पेज कहते ह ओर इसी को ही साइट कहा जाता ह  इसका जो नाम होता ह वो इसका डोमेन नाम ह उसके इस वेबसाइट का नाम होता ह .कहने का मतलब हर साइट का एक डोमेन ह वो उसका नाम ह.

डोमेन को रैंक कराने की जरूरत नही होती जिस कंपनी से लिया जाता ह ओर रजिस्टर किया जाता ह वो कंपनी पहले उस डोमेन को रैंक कराके ही देती ह बस आपको साइट में ऐड करना ह फिर ब्राउज़र में सर्च करोगे तो शो होने लग जायेगा.

आपको साइट  के पेज को रैंक कराना ह जिससे पूरी साइट की रैंकिंग इम्प्रोव हो जाये.

वैसे तो साइट को ऊंचे स्तर पर ले जाने के लिए डोमेन की अथॉरिटी बढ़ाने के लिए off page seo करना पड़ता ह उसके बारे में आगे पोस्ट पब्लिश किया जाएगा.

2.  rank web page.

एक पेज यानी किसी पोस्ट को रैंक कराने के लिए on page seo ओर of page seo दोनों टेक्निक का यूज़ किया जाता ह जिससे ब्राउज़र के पहले पेज पर पोस्ट आ जाये .

पहले पेज पर आने से विज़िटर पहले पेज को ही देखते ह

इसके बारे में एक अलग टूटोरियल बनाया जाएगा.

post ko search engine ke layak banaye

free search engine kya hai, link dale

last words.

मेने इस पोस्ट में आपको difference between web page and website in hindi यानी हिंदी में सब कुछ बताया ह.

मुझे आशा ह ये पोस्ट आपको समझ मे  आया होगा. अगर आपको अच्छा लगे तो आपके दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे


parmalink ko change or edit kare


free image loading checker tool


कोई टिप्पणी नहीं

thanks

Blogger द्वारा संचालित.