keyword density tool se post word ki counting chek kare !

keyword density checker, keyword density tool क्या ह,

ये कंयू जरूरी ह कैसे काम करती ह search engine से इसका क्या तालुकात ह,
seo tools plagiarism kya hai kaise use kare

gmail par secutity lock kaise lagaye

blogspot me custom parmalink edit kaise kare

search engine me blog tital se pahle post tital show kaise karvaye
keyword density tool se post word ki counting chek kare
keyword density chek kare


keyword density tool क्या है !

 What is keyword density checker !

blog पोस्ट लिखने से पहले एक काम किया जाता ह ये तो सभी को पता होता ह,सबसे पहले कीवर्ड रीसर्च किया जाता ह, कैसे किया जाता ह ये तो सभी को पता   है,

अगर नही पता है उसके लिए एक पोस्ट तैयार हो सकती है,  कीवर्ड का अहम रोल होता ह blog पोस्ट में,पोस्ट लिखने के लिए उसी कीवर्ड को डाला जाता ह ओर उस पर सारी पोस्ट तैयार की जाती ह,

article लिखते जाते ह ओर उस कीवर्ड को बार 2 रिपीट करते रहते ह उसके ज्यादा होने से search engine इग्नोर करते ह,

आर्टिकल non seo freandly हो जाती ह, google के update उस कीवर्ड को stuffing का दर्जा दे देते ह,
उस कीवर्ड stuffing को रोकने के लिए उसकी काउंटिंग की जाती ह keyword density tool से ओर keyword density checker भी कहा जाता ह,

keyword density tool क्या होता ह इसका पता लग चुका ह कंयू use किया जाता ह ये जानने के लिए पोस्ट read करे,

all world me 5 top blogger

blogspot blog me enable compression on kare

image ki loading speed check kare


keyword density tool seo के लिए use करना कंयू जरूरी है

पोस्ट को रैंक करने के लिए seo की जरूरत पड़ती ह, यानी पोस्ट को लिखते समय seo frendly बनाना ह, search engine में अच्छी तरह optimize करना पड़ता ह,

तो keyword density ही seo का ही fector ह, अगर इसको अच्छी तरह optimize किया जाए तो search engine  रूल के दायरे में आ जाता ह,

पोस्ट में ज्यादा keyword use हुआ तो stuffing हो सकता ह, सर्च इंजन उसे इग्नोर कर सकते ह,

use keyword प्रतिशत.

कीवर्ड को कितना बार use कर सकते ह ये पता होगा तो stuffing से तभी बच सकते ह,

कीवर्ड use करने  को ही जो प्रतिशत होती उसको ही density कहते ह,  

ये genuin तो 2% ही होनी चाहिए

ज्यादा से ज्यादा 3% रख सकते ह इसे ज्यादा नही होनी चाहिए, इससे ज्यादा हुई तो कीवर्ड stuffing हो जाएगी ,2 से कम भी कर सकते ह, 

  इसके दो तरीके ह निकलने के ,

              1.   keyword density tool

               2.   calculate

जो calculate नही करना चाहते तो keyword density tool को use करे, इसलिए ये seo के लिए बहुत जरूरी ह,

search console me blocked resources fix kare

broken link fix kare

calculate kaise kare

calculate करने के लिए पहले पूरा पोस्ट लिख ले जितने word का लिखना चाहते ह, उसके बाद 2% निकालनी ह या निकालना चाहते ह,

calculate  example.

आपका पोस्ट 1000 word का ह तो अपने कैलकुलेटर से जो नीचे दिखाया गया ह वैसे करे.

       1000×2%.  = resulat

जो आगे resulat show होगा मान लीजिए 20 आया ह तो कीवर्ड को 20 बार या इससे कम use करे ,

ओर एक कीवर्ड को डिस्क्रिप्शन में use करना ह  ओर एक टाइटल ,image, image टाइटल में यानी 3 ये हो गए, इसको मिलाके 20 से कम ही होने चाहिए,

ये तरीका बिल्कुल आसान ह इसका उसका use जरूर करे , या कर सकते हो,

वैसे तो इसको टाइम वेस्ट कहते ह , लेकिन search engine optimize करना भी बहुत जरूरी ह अगर आप counting में 10,15 मिनट लगते हो तो कोई गलत बात नही ह,

इसके ये फायदे भी ह , सर्च इंजन के रूल्स के दायरे में आ जाते ह ओर कीवर्ड stuffing का भी खतरा नही रहता,

keyword density tool कैसे use करें ।


अपने ऊपर से तो पोस्ट को पढ़ लिया होगा इस टूल को कंयू यूज़ करना चाहिए और calculation कैसे करनी ह वो भी बता दिया अब आपको आगे बताने वाले ह टूल को कैसे यूज़ करना ह , density कैसे बताएगा ये टूल इन सभी सवालों का जवाब आगे पोस्ट में दिया जाएगा पोस्ट को read कीजिये स्टेप by स्टेप फॉलो करें,


कुछ बेसिक इन्फो दे देते ह जिससे यूज़ करने में कोई दिकत ना हो,

पोस्ट को लिखते समय कीवर्ड डालते रहे ,आधा पोस्ट लिखने के बाद इसे कॉपी कर ले कॉपी करने के बाद टूल को ओपन करके उसमें पेस्ट करे,

जब अपने पोस्ट को कॉपी करने से पहले पोस्ट को blog में save कर ले ताकि पोस्ट dealete ना हो blog में save का option होता ह, कई बार ऐसा  होता ह जब हम कोई ब्राउज़र में ओर page ओपन करते ह तो dealete हो जाता ह,

इसका ध्यान रखना ह ताकि आपको ये दिकत ना आये,

आगे बताते ह tool कोनसा ह कैसे use करना ह,


use tool.

          1. अपना browser ओपन करे ,

           2. search बार मे टाइप कीजिये
            word counter सर्च कीजिये,

           3. अपने पोस्ट को कॉपी कीजिये,

            4.इस बॉक्स में एक इंटर मारकर पहले नीचे
                कीजिये फिर जो कॉपी किया उसे पेस्ट
               कर दीजिए   inter नही मरोगे तो पेस्ट नही
             होगा बॉक्स में ये लिखा ह इससे नीचे पेस्ट करे
            ( start typing or copy paste )
              नीचे फ़ोटो देखे.
keyword density tool se post word ki counting chek kare
keyword density cheker


           5. पेस्ट करने के बाद जितने वर्ड का पोस्ट होगा show हो जाएगा जितने करेक्टर होंगे वो भी बता देगा फिर स्क्रॉल को ऊपर करे सबसे पहले detail आएगा

 detail में बताएगा इतने word ह, इतने करेक्टर ह, इतने पैराग्राफ ये सब बता देगा ,
keyword density tool se post word ki counting chek kare
keyword density cheker


थोड़ा और ऊपर स्क्रोल करोगे फिर जो चाहते हो वो बताएगा उसमे इतने प्रतिशत ये word आया ह इतनी बार आया ह,

इसमे अगर कीवर्ड शो ना हो तो मान लीजिए 1%से भी कम हो तो कीवर्ड ओर यानी 2,3, जगह डालिये फिर चेक कीजिये आ जाये तो ठीक ह 2% हो जाये तो बस इतना ही करना ह यानी पूरे पोस्ट में 1 से2 के बीच मे ही होनी चाहिए,

 अगर एक बार इस tool को यूज़ कर लेते ह तो जब दोबारा करोगे तो आपका पोस्ट उस tool में save रहता ह इसमे ऊपर कुछ option दिए ह उसमे से एक option ह clear का उस पर क्लिक करके पहले वाला साफ करले फिर दूसरे article को एक inter  मारकर पेस्ट करना ह उसके बाद resulat शो होगा,

last words.
इसमे मेने blog पोस्ट लिखते समय कीवर्ड का कितना ध्यान रखना ह ताकि seo के दायरे में on page सही रहे ये सब बताया ह कैसे कैलकुलेशन करनी ह ,

keyword density tool से कैसे चेक करना ह,

tool के बारे में भी बता दिया ह आपको काउंटिंग नही हो रही ह तो  इसकी help से seo ओर google पेंगुइन अपडेट से बच सकते ह ,

जब पोस्ट सबमिट होने के बाद इंडेक्स होती ह उसके बाद googl के update इन stuffing को देखते ह ये चीज मिल जाये तो domain को पेनेल्टी लगा देते ह  ranking डाउन कर देते ह , पोस्ट को बेन नही करते domain की छूती करते ह जिससे सारी site down आ जाती ह,

तो आपको समझ आ चुका होगा, अगले पोस्ट तक wait कीजिये,

themes ki header add kaise chalaye

                         
       
       


    



  









कोई टिप्पणी नहीं

एक टिप्पणी भेजें

thanks

Blogger द्वारा संचालित.